header

नवगीत








नवगीत

   ⇦गीत

 पास आपके आया हूँ !


अपने  मन  की  बात   बताने ,
          पास आपके आया हूँ !

भूल  सका  हूँ  कब  वो  मंजर ,
शस्रहीन  ने      झेला    खंजर ,
संबंधों     का     घात    बताने ,
अपना  ताजा  ज़ख्म   दिखाने ,
           पास आपके आया हूँ !

करी  भूख  ने  आज  ठिठोली ,
मरा  देख  लो   खाकर  गोली ,
अपने    से      लगते    बेगाने ,
अपना  खोया   वापिस   पाने ,
           पास आपके आया हूँ !

पूछो मत अब  हाल  सियासी,
अपने घर   में   हुआ  प्रवासी ,
पीर   हमारी   हम  ही   जानें , 
आज   बनाकर  नये    बहाने ,
          पास आपके आया हूँ !

मुझे   कहो   ना  बात करारी ,
नहीं   सुहाए    ये    बरदारी ,
सच   से  ना  रहिए अनजाने ,
मैं  तो  बस  इतना  समझाने,

         पास आपके आया हूँ !

 ⇦गीत

ये कैसा मधुमास सखी री  ,
             ये कैसा मधुमास !

कोयल बिलखी देख आम पर  ,
              हुआ दवा  का  लेप .
नीम  चढ़न को आतुर  लगती ,
                खड़ी करेला खेप .
कलम बंधे  पादप  बरगद  का ,
                  उड़ा रहे उपवास .

होनहार   बिरवा  के    लगते ,
                   पीले पीले  पात .
 दबी  हुई  अब   धूम  तले  वो ,
                  हाँफ रही है वात .
चम्पा   गेंदा     और      मोगरा  ,
                 झेल  रहे  वनवास .

धूल   धूसरित   फूलों   को  अब ,
                 हुआ साँस का  रोग .
कली   आज   प्रौढ़ा   सी  होकर  ,
                   दर्द   रही  है  भोग .
 सूनी    बगिया  भंवरा    फिरता ,
                   लिए अधूरी प्यास .


संपर्क सूत्र :- 
राजकीय प्राथमिक पाठशाला भटेड़ा
तहसील व जिला - झज्जर ( हरियाणा )