header

भूखा बंदर (bukha bander)- बालगीत हिंदी, Best Hindi Balgget, hindi Nursery Rhymes, Hindi Rhymes | राजपाल सिंह गुलिया

       


       भूखा बंदर 
                :::::::::::::::
छ्त   से   उतरा   बंदर    भूखा .

खाना  था  बस   रूखा    सूखा .

बंदर  जी   का  दिल   ललचाया .

खाना  खूब   दबा  कर    खाया .

लगा     तड़फने   कोई     आओ .

पेट  दर्द   की   दवा      दिलाओ .

डॉक्टर     भालू    भागा   आया .

नब्ज   देख   उसको   धमकाया .

पहले   उल्टा    पुल्टा       खाते .

फिर तुम पेट   पकड़   चिल्लाते .

उठो ,  अब  खुद  को   संभालो .

आँखों   में  ये   सुरमा     डालो .

बंदर    बोला    यूँ      हकलाते .

पेट....दर्द....की ..औषध..लाते .

भालू  ने   ये    कह   समझाया .

बीमारी   का    करूँ    सफाया .

गर   ठीक   से    देख   पाओगे .



बासी    भात    नहीं    खाओगे .

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::


   राजकीय प्राथमिक पाठशाला भटेड़ा

  तहसील व जिला - झज्जर ( हरियाणा

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ