header

Best Hindi Balgget,बालगीत हिंदी |Hindi Nursery Rhymes, Hindi Rhymes | राजपाल सिंह गुलिया







बालगीत हिंदी


इधर   चहकता   मिला   कंगुरा ,
     उधर सिसकती है बुनियाद !

हल्फनामा    मौन   हुआ   जहाँ ,
          मौखिकता पाती है मान .
 ढंग  देख  कर  आज  तेग  का ,
           करे बगावत देखो म्यान .
रिश्ते  भी   तब   रिसने    लगते ,
       बरसे  जब  इनमें  फौलाद .

चाहत  जिनकी   बस  जन्नत  है ,
            हूरें  जिनकी  रही  पसंद .
जिम्मा    लेते    हर    गुनाह   का ,
                 हुए हौसले देख बुलंद.
मार   रहे     हैं    अपनों   को   ही ,
               लेकर  गैरों से  इमदाद .

दिन    लगते   हैं    आग     उगलते ,
               थकी थकी सी लागे रात .
अब   साजिश   के  संग   निकलती ,
                 बनी ठनी सी टेढ़ी बात .
मुफ़्तखोरों    की     मेरे    देश     में ,
                  बढ़ी हुई है अब तादाद .
-–----------------------------------------
संपर्क सूत्र :- 
            राजपाल सिंह गुलिया
   राजकीय प्राथमिक पाठशाला  भटेड़ा 
   तहसील व जिला झज्जर (हरियाणा )
              पिन - 124108
          मोबाइल # 9416272973

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां