header

बालगीत,Hindi Nursery Rhymes,Balgget Hindi,Rhymes,राजपाल सिंह गुलिया




          ⇦गीत

 पास आपके आया हूँ !

अपने  मन  की  बात   बताने ,
          पास आपके आया हूँ !

भूल  सका  हूँ  कब  वो  मंजर ,
शस्रहीन  ने      झेला    खंजर ,
संबंधों     का     घात    बताने ,
अपना  ताजा  ज़ख्म   दिखाने ,
           पास आपके आया हूँ !

करी  भूख  ने  आज  ठिठोली ,
मरा  देख  लो   खाकर  गोली ,
अपने    से      लगते    बेगाने ,
अपना  खोया   वापिस   पाने ,
           पास आपके आया हूँ !

पूछो मत अब  हाल  सियासी,
अपने घर   में   हुआ  प्रवासी ,
पीर   हमारी   हम  ही   जानें , 
आज   बनाकर  नये    बहाने ,
          पास आपके आया हूँ !

मुझे   कहो   ना  बात करारी ,
नहीं   सुहाए    ये    बरदारी ,
सच   से  ना  रहिए अनजाने ,
मैं  तो  बस  इतना  समझाने,
         पास आपके आया हूँ !

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
संपर्क सूत्र :-
          राजपाल सिंह गुलिया 
राजकीय प्राथमिक पाठशाला भटेड़ा 
तहसील व जिला - झज्जर ( हरियाणा )
         

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ