header

हिंदी नवगीत,hindi navgeet,राजपाल सिंह गुलिया








नवगीत

ये कैसा मधुमास सखी री  ,
             ये कैसा मधुमास !

कोयल बिलखी देख आम पर  ,
              हुआ दवा  का  लेप .
नीम  चढ़न को आतुर  लगती ,
                खड़ी करेला खेप .
कलम बंधे  पादप  बरगद  का ,
                  उड़ा रहे उपवास .

होनहार   बिरवा  के    लगते ,
                   पीले पीले  पात .
 दबी  हुई  अब   धूम  तले  वो ,
                  हाँफ रही है वात .
चम्पा   गेंदा     और      मोगरा  ,
                 झेल  रहे  वनवास .

धूल   धूसरित   फूलों   को  अब ,
                 हुआ साँस का  रोग .
कली   आज   प्रौढ़ा   सी  होकर  ,
                   दर्द   रही  है  भोग .
 सूनी    बगिया  भंवरा    फिरता ,
                   लिए अधूरी प्यास .


संपर्क सूत्र :- 
             राजपाल सिंह गुलिया 
राजकीय प्राथमिक पाठशाला भटेड़ा
तहसील व जिला - झज्जर ( हरियाणा )

टिप्पणी पोस्ट करें

2 टिप्पणियां