header

hindi dohe, हिंदी दोहे,dohe, दोहे ,couplets,राजपाल सिंह गुलिया

                  

                        दोहे 

                      ..........

1.
किया समय  के  यक्ष  ने , ऐसा   कठिन    सवाल !
दूर    मुझे   लगने   लगा ,  सुख सुविधा का ताल !!
2
घर भी उसको ही मिला , मिला  उसे  ही  घाट !
जब   उसने   दरबार  में , लिया थूक कर चाट !!
3.
आकर  ज़र ने  बीच  में , बदले  यूँ   हालात !
लेख  लेखनी लिख  गई , पकड़ी गई दवात !
4.
कठपुतली हैं हम सभी , रंग मंच    संसार !
लौटें   सब    नेपथ्य में , कर पूरा किरदार !!
5.
कर   देते   हो    फैसला , बिन ही  तहक़ीक़ात !
जान  गए अब आप भी ,  पैसे   की   औक़ात !!
6.
अपनों  ने कुछ यूँ  किया  , नफरत का  छिड़काव !
संबंधों    के    खेत     में  , पनपा    नहीं   लगाव !!
7.
मेरी   ये   तकदीर  भी , निकली  बड़ी  अजीब !
अपनों  ने  मारा  तभी , छाया    हुई      नसीब !!
8.
बातों    में   लच्छे    नहीं , नहीं   जीभ  में   लोच !
मिले सफलता किस तरह ,  यही  रहा वह  सोच !!
9.
बिल्ली अब भागी  फिरे , नहीं  छुपन  की ठाँव !
सिखा  दिए  हैं शेर  को , गलती  से  सब  दाँव !!
10.
कत्ल  हुआ  बाजार में , किस्सा सुनो जदीद !
मिला नहीं उस भीड़ में , एक भी  चश्मदीद !!
11.
करना  बेहद  मान  तुम , है  बस  ये  इसरार !
इतना भी  झुकना  नहीं , गिर  जाए  दस्तार !!
12.
लुटी  आब  को  दाम  दें ,  देख राज का काज !
झुलसे  का  ये  आग  से , करने  लगे  इलाज !!
13.
देते  हैं   हर  बार  हम  , उनको  बढ़िया  भोज !
लेकिन वह पकवान में ,  लेते   कंकड़   खोज !!
14.
यही   लुटेरा  कोष  का , कहे  दरोगा   ढीठ !
पकड़े ककड़ी चोर  को , ठोंके अपनी पीठ !!
15.
दौलत  असर   रसूख  का , ऐसा    हुआ   करार !
पुलिस   हिरासत  से तभी , कातिल हुआ फरार !!
16.
कौर   चोर   के  हाथ  से  , खाकर  बोला  श्वान !
कहीं  नहीं  इस  लूट  का , बाकी   रहे  निशान !!
17.
ढोंगी   बाबा  की   मिली , एक   यही  पहचान !
खुद  करते कुछ  और  हैं , करते और  बखान !!
18.
वन  के  कटते  वृक्ष  ये , कहते  चीख   पुकार !
जन  तू अपने  पैर  पर , नहीं  कुल्हाड़ी   मार !!
19.
रोज  मिले  तुझको  यहाँ , बिन माँगे ही भीख !
एक   बार  तू   भीड़  को , ज़रा हाँकना सीख !!
20.
देख कहीं पर बाढ़ ने , हाल    किया   बेहाल !
और कहीं बरसात ये , बनकर खड़ी  सवाल !!
......................................................


संपर्क सूत्र :-
              राजपाल सिंह गुलिया
राजकीय प्राथमिक पाठशाला भटेड़ा

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ