header

hindi ghazal, ग़ज़ल,Ghazal (ग़ज़ल)," हम हिन्दुस्तानी " ,राजपाल सिंह गुलिया झज्जर , हरियाणा





              ग़ज़ल 
               .........

इतना   तुझको   ख्याल    नहीं ,
घर      है    ये    चौपाल   नहीं .

खेल   रहा      खेल    सियासी ,
मगर  जेब   में     माल     नहीं .

घडियालों   को    फाँस    सके ,
मिलते      ऐसे      जाल   नहीं .

माल    पराया      देख     यहाँ ,
टपके   किसकी    राल    नहीं .

सिर  पर   उतना   कर्ज़   चढ़ा ,
जितने   सिर   पर   बाल  नहीं .

बाँट   रहा   जो   भाग  बराबर ,
होती   उसकी   पड़ताल  नहीं .

वीर   नहीं   हैं  तुझसे  बढ़कर ,
वहम   कभी    ये   पाल  नहीं .
...................................
संपर्क सूत्र :-
               राजपाल सिंह गुलिया
   जहादपुर , झज्जर ( हरियाणा 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ