header

Best Hindi Balgget,बालगीत हिंदी |Hindi Nursery Rhymes, Hindi Rhymes | राजपाल सिंह गुलिया

   


                नकल पर नकेल 
            ::::::::::::::::::::::
  
अभिभावक     अध्यापक     सारे ,
           आपस में अब करके मेल .
 अब    हरगिज  ना     होने    देंगे ,
          इस नकल को डालें नकेल .

बात    ज्ञान    की     समझो  भाई ,
नकल      है     सामाजिक   बुराई .
सारे         बच्चे     आगे       आएं  ,  
आज   सभी   ये    कसम    उठाएं  . 
नकल   करेंगे   ना    हरगिज    भी ,
             बेशक हम हो जाएं  फेल .

हाथ   नकल  का   पकड़  न चढ़ना ,
नहीं    कभी     यूँ     आगे    बढ़ना .
निठल्ला   है  खुद  को   ही  छलता ,
बिन  परिश्रम  कब   मिले सफलता .
व्यर्थ  फल   की   आस   ना  करना,
          मानो  इसको  इक विष बेल .

नकल    सदा     ही    नाक   कटाए ,
कहाँ     किसी    का    मान   बढ़ाए .
ध्यान    धरे      जो    बच्चा   पढ़ता ,
जीवन     में     वह     आगे   बढ़ता .
पढ़ना    बहुत    जरूरी     है   फिर ,
              लेना तुम जी भरकर खेल .


-------------------------------------------
संपर्क सूत्र :- 
                राजपाल सिंह गुलिया 
राजकीय प्राथमिक पाठशाला काहड़ी
तहसील व जिला झज्जर ( हरियाणा )

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ